Events

संस्कृति विश्वविद्यालय ने मनाया आठवां स्थापना दिवस
- रंगारंग प्रस्तुतियों का प्रदर्शन कर विद्यार्थियों ने सभी का मन मोहा
- छोटी पहल का बट-वृक्ष बनना ठीक, लेकिन रुकना नहींः- सचिन गुप्ता
- काय र्क्रमें मिस और मिस्टर फ्रैशर का चयन रहा आकर्षण केन्द्र

8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
8th Foundation Day celebrations 2018
See More 8th Foundation Day celebrations 2018

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय का स्थापना दिवस गीत संगीत के तरानों के साथ सोल्लास मनाया गया। देर रात तक सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के चलते आनंद की रसधार बहती रही। कई राज्यों के बच्चों ने क्षेत्रीय प्रस्तुतियां देकर एक ही मंच पर सांस्कृतिक विविधता की छटा बिखेर दी। इस अवसर पर वक्ताओं ने चंद कोर्स के साथ शुरू हुई पहल को परवान चढ़ने पर सभी सहयोगियों को बधाई दी। साथ ही आह्वान किया कि जिम्मेदारी बड़ी है हमें रुकना नहीं है।

कार्यक्रम का शुभारंभ कुलाधिपति सचिन गुप्ता एवं श्रीमती श्रीमती नेहा गुप्ता, उप कुलाधिपति राजेश गुप्ता एवं श्रीमती पूनम गुप्ता ने दीप प्रज्वलन कर मंचीय कार्यक्रमों का शुभारंभ किया। तदोपरांत संस्कृति विश्वविद्यालय के आरंभ से अभी तक की आठ वर्षीय यात्रा पर आधारित पॉवर प्वाइंट प्रस्तुति का प्रदर्शन किया गया।

इस मौके पर कुलाधिपति ने कहा कि कॉलेज स्तर से शुरू हुआ प्रकल्प आज बट वृक्ष बन चुका है। दर्जनों कोर्स, देशभर के छात्र हमारे यहां गुणवत्ता युक्त शिक्षा पा रहे हैं। हमने विद्यार्थियों के हित में केम्ब्रिज एवं मलेशिया की हेल्प यूनिवर्सिटी से करार कर रखा है। हम उद्देश्य परक शिक्षा की दिशा में काफी आगे बढ़े हैं। विवि ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है। इसे और तेजी से आगे बढ़ाते हुए स्थापित करना है।

उप कुलाधिपति ने कहा कि युवाओं के कौशल विकास की ओर भी हमारा सतत ध्यान है। इस लिए भारत सरकार की स्मॉल एण्ड मीडियम इण्टर प्राइजेज एवं चिकित्सा क्षेत्र में अग्रणी समूह नयती मेडिसिटी के साथ भी एमओयू किया है। निश्चय ही हमारा यह प्रयास स्थानीय एवं देश के अन्य राज्यों से आए बच्चों में बहुमुखी प्रतिभा का निखार करेगा। उन्होंने अनुसंधान की दिशा में प्रयास तेज करने पर जोर दिया।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारंभ गणेश वंदना से हुआ। तदोपरांत विशेष शिक्षा पा रहे बच्चों ने गणेश वंदना पर समूह नृत्य की मनोरम प्रस्तुति दी।

तानजेन एवं नवीन के युगलगीत पर दर्शक दीर्घा में बैठे लोग तालियां बजाने से नहीं रुक पाए। तदोपरांत फैशन शो का आयोजन किया गया। तदोपरांत उत्कर्ष और पल्लवी के युगल गीत पर लोग आनंदित हो उठे। कपल डांस की प्रस्तुतियां भी आकर्षण का केन्द्र रहीं। गीत संगीत के तरानों पर विवि ग्राउण्ड तालियों की गड़ गड़ाहट से गुलजार होता रहा। कार्यक्रम में विशेष शिक्षा श्रेणीक्रम वाले बच्चों को सम्मानित करते हुए उन्हें पुरस्कार भी प्रदान किए गए।

उत्तर-पूर्व के बच्चों की प्रस्तुति लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र रही। इससे लगा कि सांस्कृतिक विविधताओं वाले देश की विभिन्न संस्कृतियों का समागम हो रहा है। कार्यक्रम में रोमांटिक कपल डांस, आफत में जान प्ले, पेट्रिऑटिक डांस के आयोजन भी आकर्षण का केन्द्र रहे। मिस्टर और मिस फ्रैशर का चयन किया जाना विशेष आकर्षण रहा।

कार्यक्रम में ओएसडी मीनाक्षी शर्मा, कुलपति डॉ राणा सिंह, उप कुलपति डॉ अभय कुमार, कार्यकारी निदेशक पीसी छावड़ा, डीन डॉ कल्याण कुमार, सभी विभागाध्यक्ष एवं स्टॉफ मौजूद रहा।

Online Admission