Events

National conference on Smart Manufacturing-Management and Technology will be held at Sanskriti campus on 14th April 2018

Sanskriti University will be organizing a National Conference on Smart Manufacturing-Management and Technology (NCSMMT-2018) at its campus in Mathura on 14th April, 2018. The conference will be organized in association with PPDC centre of MSME, Agra.

NCSMMT-2018 aims to address the technical & managerial issues related to smart manufacturing by providing a platform to exchange innovative ideas, expert views and relevant information. Lectures will be delivered by eminent speakers having proven expertise in the subject. The subjects to be deliberated upon shall include Nano Technolgy; CAD /CAM/CIM/CIE; Six Sigma/Lean Manufacturing; Artificial Intelligence etc.

Sanskriti University has established a Centre of Excellence at its campus as per the terms of M.O.U. signed with MSME, Agra. Here the students are being taught industrial robotics. Incidentally, Sanskriti is the only university teaching industrial robotics. The laboratory at center of excellence faclitates hands on training to the students on robotics.

About MSME

Ministry of MSME promotes growth and development in cooperation with concerned Ministries/Departments, State Governments and other Stakeholders,. The Ministry is the apex body for the formulation and administration of rules, regulations and laws relating to micro, small and medium enterprises in India.

About Smart Manufacturing

It is a fully-integrated, collaborative manufacturing system responding to real time needs to meet changing demands and conditions in the industry. Its essence is 'improving quality while driving down the cost' by application of innovative technological process. It involves capacity utilization without cost or time over run.

We know that Return on Investment (R.O.I.) is considered as barometer of success of any business. While technology has its own importance, the focus of businessmen is on the time frame of earning a specific amount of R.O.I. Hence, it is imperative that engineers, operations leaders, sourcing professionals and equipment suppliers need to think more like investors. & effectively align the capabilities of advanced technologies with financial goals,

Mr. Sachin Gupta, Chancellor, Sanskriti University, said that he is pleased to find that a nationa conference is being organized on a topic of great significance in the contemporary world. He wished it a grand success.


शनिवार को संस्कृति यूनिवर्सिटी में होगी नेशनल कान्फ्रेंस
स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग मैनेजमेंट एण्ड टेक्नोलाजी पर विशेषज्ञ व्यक्त करेंगे उद्गार
निदेशक क्वालिटी कंट्रोल आफ इंडिया इंद्रजीत भट्टाचार्य होंगे मुख्य अतिथि

मथुरा। छात्र-छात्राओं को तकनीकी क्षेत्र में हो रहे क्रांतिकारी परिवर्तनों से रू-ब-रू कराने के लिए संस्कृति विश्वविद्यालय प्रबंधन द्वारा 14 अप्रैल, शनिवार को एक नेशनल कान्फ्रेंस का आयोजन किया जा रहा है। इस कान्फ्रेंस में आईआईटी, एनआईटी, शासकीय-अशासकीय महाविद्यालयों और विभिन्न यूनिवर्सिटी के विशेषज्ञ वक्ता स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग मैनेजमेंट एण्ड टेक्नोलाजी विषय पर अपने-अपने शोध-पत्रों का वाचन करेंगे।

नेशनल कान्फ्रेंस का शुभारम्भ संस्कृति विश्वविद्यालय के सेमिनार हाल में शनिवार की सुबह 10 बजे निदेशक क्वालिटी कंट्रोल आफ इंडिया इंद्रजीत भट्टाचार्य के मुख्यातिथ्य में किया जाएगा। इस अवसर पर निदेशक एमएसएमई आगरा सेण्टर के निदेशक पन्नीर सेल्वम और असिस्टेंट डायरेक्टर आफिस आफ डीसीएमएसएमई मनोज शर्मा विशेष अतिथि होंगे। नेशनल कान्फ्रेंस की जानकारी देते हुए कुलपति डा. देवेन्द्र पाठक ने बताया कि आज तकनीकी युग है। तकनीकी क्षेत्र में हर दिन कुछ न कुछ परिवर्तन हो रहे हैं, ऐसे में छात्र-छात्राओं को बदलते परिवेश की अद्यतन जानकारी से रू-ब-रू होना जरूरी है। डा. पाठक ने बताया कि इस नेशनल कान्फ्रेंस में निदेशक क्वालिटी कंट्रोल आफ इंडिया इंद्रजीत भट्टाचार्य अपने अनुभवों से जहां छात्र-छात्राओं को अवगत कराएंगे वहीं विभिन्न कम्पनियों, आईआईटी, एनआईटी, शासकीय-अशासकीय महाविद्यालयों के विशेषज्ञ भी अपने शोध-पत्र प्रस्तुत करेंगे।

कुलाधिपति सचिन गुप्ता का कहना है कि आज बदलाव का दौर है, ऐसे में यदि हम समय के साथ नहीं चलेंगे तो काफी पीछे छूट जाएंगे। भारत की युवा शक्ति को आज तकनीकी क्षेत्र में दक्ष करना जरूरी है। हमारे पास आज दुनिया तक पहुंचने का ऐसा मौका है जो अब से पहले कभी नहीं था। संस्कृति यूनिवर्सिटी में तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर सुधार किए जा रहे हैं। स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग मैनेजमेंट एण्ड टेक्नोलाजी पर होने जा रही नेशनल कान्फ्रेंस छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी साबित होगी।

उप-कुलाधिपति राजेश गुप्ता का कहना है कि आज दुनिया रोबोटिक शिक्षा की तरफ अग्रसर है। भारतीय युवा पीढ़ी को इस क्षेत्र में दक्षता हासिल करनी है, तो उसे तकनीकी बदलाव को आत्मसात करना होगा। संस्कृति यूनिवर्सिटी में रोबोटिक शिक्षा का श्रीगणेश हो चुका है, जिसका लाभ छात्र-छात्राओं को उठाना चाहिए। हमें अपने सपनों को साकार करने के लिए खुद को बदलना होगा।


Online Admission